साझेदारी के कामों में सावधानी रखनी होगी। कामकाज निपटाने की प्लानिंग में बार-बार न बदलाव न करें। रोजमर्रा और पार्टनरशिप के कामों में थोड़ी रुकावटें आ सकती हैं। कुछ मामलों में भी सावधानी रखनी जरूरी है। पुरानी परेशानियां रह सकती हैं। फालतू किसी और का काम करने के झंझट में न पड़ें। जोश में आकर कोई जोखिम भी न लें। किसी से कोई वादा न करें।